Friday, 22 June 2012

ना तन्हा हूँ ना गम के घेरे ,

ना तन्हा हूँ ना गम के  घेरे  ,
ना खुशियों से दूर ना भाव तरेरे  ,
ना व्याकुल दिल ना बाँहों में तेरे ,
ना दूर हुए न नजरे फ़ेरे ,
मोहब्बत की कसक फिर भी ,
सपनों में तू अब भी मेरे 

1 comment:

Share Your Views on this..

युवा कहानीकारों में डॉ. मनीष कुमार मिश्रा का नाम

  कहानी गद्य साहित्य की वह सबसे अधिक रोचक एवं लोकपप्रिय विधा है , जो पाठक के मन पर समन्वित प्रभाव उत्‍पन्‍न करने की क्षमता रखती है। कहानी को...