हिंदी ब्लागिंग : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाएं '' -दो दिवशीय राष्ट्रीय संगोष्ठी

प्रिय हिंदी ब्लॉगर बंधुओं ,
           आप को सूचित करते हुवे हर्ष हो रहा है क़ि आगामी शैक्षणिक वर्ष २०११-२०१२ के जनवरी माह में २०-२१ जनवरी (शुक्रवार -शनिवार ) को ''हिंदी ब्लागिंग  : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाएं ''  इस विषय पर दो दिवशीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की जा रही है.  विश्विद्यालय अनुदान आयोग    द्वारा  इस संगोष्ठी को संपोषित  किया जा सके इस सन्दर्भ में  औपचारिकतायें पूरी की जा रही हैं. के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय के हिंदी विभाग द्वारा आयोजन की जिम्मेदारी ली गयी है. महाविद्यालय के प्रबन्धन समिति ने संभावित संगोष्ठी के पूरे खर्च को उठाने की जिम्मेदारी ली है. यदि किसी कारणवश कतिपय संस्थानों से आर्थिक मदद नहीं मिल पाई तो भी यह आयोजन महाविद्यालय अपने खर्च पर करेगा.
               संगोष्ठी की तारीख भी निश्चित हो गई है (२०-२१ जनवरी २०१२ )  संगोष्ठी में अभी पूरे साल भर का समय है ,लेकिन आप लोगों को अभी से सूचित करने के पीछे मेरा उद्देश्य यह है क़ि मैं संगोष्ठी के लिए आप लोगों से कुछ आलेख मंगा सकूं.
             दरअसल संगोष्ठी के दिन उदघाटन समारोह में हिंदी ब्लागगिंग पर एक पुस्तक के लोकार्पण क़ी योजना भी है. आप लोगों द्वारा भेजे गए आलेखों को ही पुस्तकाकार रूप में प्रकाशित किया जायेगा . आप सभी से अनुरोध है क़ि आप अपने आलेख जल्द से जल्द भेजने क़ी कृपा    करें  .
           आप सभी के सहयोग   क़ी आवश्यकता  है . अधिक  जानकारी  के लिए संपर्क  करें 


डॉ.  मनीष  कुमार  मिश्रा 
 के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय 
 गांधारी  विलेज , पडघा  रोड 
 कल्याण -पश्चिम 
 pin.421301
 महाराष्ट्र
mo-09324790726

Comments

  1. ये तो बहुत बढिया जानकारी दी है आपने …………ब्लोगिंग अपनी पहचान बढाती जा रही है जानकर अच्छा लगा…………कोशिश करेंगे……………आभार्।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी पोस्ट मिली पढकर बहुत ख़ुशी हुई की हिंदी भाषा भी धीरे धीरे देश मै अपने पांव पसारने लगा है ! सुचना देने का बहुत बहुत शुक्रिया ! पर आपने ये नहीं बताया की किस विषय मै लिखना होगा ! या कोई भी विषय मान्य होगा कृपया बताने का कष्ट करे ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  3. महोदय, इस तरह का प्रयास शायद यह पहली बार किया जा रहा है। आपने इतने महिने पूर्व से ही आयोजन की तैयारी आरंभ कर दी है यह निश्चय ही समारोह की सफलता का द्योतक है। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है। मेरे योग्य कोई सेवा हो तो अवस्य लिखें।
    हितैषी
    अकेलाभाइ
    पूर्वोत्तर हिंदी अकादमी
    पो. रिन्जा,
    शिलांग 793006 (मेघालय)

    ReplyDelete

Post a Comment

Share Your Views on this..

Popular Posts