हुनर मुझको ही न आया , अहसान करने का ,


=========================================
अभिज्ञान तुम्हारा अज्ञान तुम्हारा , आत्मीयता या अभिमान तुम्हारा ;
क्या हम माने मेरा सच क्या है , आलिंगन या अपमान तुम्हारा /

============================================

हुनर  मुझको ही न आया , अहसान करने का ,
कैसे भरूंगा कर्ज , है प्यार कहने का /

=========================================

विनय कुमार पाण्डेय 

Comments

Popular Posts