Thursday, 12 January 2012

गमो को यूँ हर पल सींचा किये हम

खुशियों को दामन में भींचा किये हम  ,

गमो को यूँ हर पल सींचा किये हम ;

तन्हाइयों से  बेचैन गमो में नैन ,

पर अहसासों भरे सपने देखा किये हम ;


मजबूरियों की दास्ताने देखी ,

भावनाओं की शाने  देखी ,

महका हुआ सावन खिला हुआ चमन

दिले आरजू तेरे अर्थियों की बाराते देखी /





खुशियों को दामन में भींचा किये हम  ,

गमो को यूँ हर पल सींचा किये हम ;

No comments:

Post a Comment

Share Your Views on this..

depicting the contemporary life in India with its both pros and cons.

  Dr. Manisha Patil has written review of my Book. Title of the Book / समीक्षित पुस्तक: स्मृतियाँ (कहानी संग्रह) Author / लेखक: डॉ. मनीष कुम...