Saturday, 27 July 2013

तीखी सी शरारत

              उन्हें शिकायत है कि
              मैं उनकी हर बात मान लेता हूँ
              उन्हें अक्सर याद करता हूँ
              वो जब भी बुलाती हैं
              हर काम छोडकर चला जाता हूँ
              वो कहती हैं –
              तुम्हें कुछ काम नहीं रहता क्या ?
              जब देखो कहते हो –
              तुम्हें ही याद कर रहा था
              जब भी मिलने की बात हो-
              झट से मान जाते हो
              मैं जानता हूँ कि
              उनकी यह शिकायत
              दरअसल एक शरारत है
              प्यार में

              मिठास बढ़ाती
              तीखी सी शरारत ।









3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज रविवार (28-07-2013) को त्वरित चर्चा डबल मज़ा चर्चा मंच पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. तीखी सी शरारत भी वाह ।

    ReplyDelete

Share Your Views on this..