उन्हें अपने दिल की ख़बरें मेरे दिल से मिल रही हैं/ शकील बँदायूनी




ग़म-ए-आशिक़ी से कह दो राह-ए-आम तक न पहुँचे
मुझे ख़ौफ़ है ये तोहमत मेरे नाम तक न पहुँचे

मैं नज़र से पी रहा था तो ये दिल ने बद-दुआ दी
तेरा हाथ ज़िन्दगी भर कभी जाम तक न पहुँचे

नई सुबह पर नज़र है मगर आह ये भी डर है
ये सहर भी रफ़्ता रफ़्ता कहीं शाम तक न पहुँचे

वो नवा-ए-मुज़महिल क्या न हो जिस में दिल की धड़कन
वो सदा-ए-अहले-दिल क्या जो अवाम तक न पहुँचे

उन्हें अपने दिल की ख़बरें मेरे दिल से मिल रही हैं
मैं जो उनसे रूठ जाऊँ तो पयाम तक न पहुँचे

ये अदा-ए-बेनिआज़ी तुझे बेवफ़ा मुबारक
मगर ऐसी बेरुख़ी क्याa के सलाम तक न पहुँचे

जो नक़ाब-ए-रुख़ उठा दी तो ये क़ैद भी लगा दी
उठे हर निगाह लेकिन कोई बाम तक न पहुँचे

वही इक ख़मोश नग़्मा है "शकील" जान-ए-हस्ती
जो ज़ुबाँ तक न आये जो क़लाम तक न पहुँचे

Comments

Popular Posts