Saturday, 24 April 2010

अमरकांत की कहानी-हत्यारे

अमरकांत की कहानी-हत्यारे :-
      'हत्यारे` कहानी दो युवकों के मित्रवत बात-चीत से शुरू होती है। दोनों अपनी आपनी हाँक रहे थे और आनंदित हो रहे थे। दिन भर वे इसी तरह गप-शप और मस्ती करते हुए घुमते रहे। 
      जब शाम हुई तो वे शराब पीने बैठ गये और जमकर शराब पी। शराब पी कर जब वे बाहर निकले तो जान-पहचान वाली किसी वेश्या के घर पहुँच गये। उस वेश्या से शरीरिक सुख लेने के बाद जब उसे पैसे देने की बात आयी तो वे पैसे छुट्टे कराने के बहाने बाहर निकले और जूते हाँथ में लेकर भाग निकले।
      लड़की के शोर मचाने पर जब एक आदमी उनका पीछा करते हुए उनके करीब आ गया तो एक युवक ने चाकू निकालकर उस व्यक्ति के पेट में घोप दिया और अँधेरे में गायब हो गये।
   

No comments:

Post a Comment

Share Your Views on this..