Tuesday, 14 April 2009

सुहानी शाम दिलकश रात हो -----------------------


सुहानी शाम दिलकश रात हो

ऐसे में मिलो तो क्या बात हो ।


जो गजलो में अच्छा लगता है
तुम बिल्कुल वही जज्बात हो ।


तुम्हारी अदावो का कहना क्या
मैं डाल-डाल तुम पात-पात हो ।


कह दूंगा दिल की हर एक बात मैं
अब जब भी तुमसे मुलाक़ात हो ।

3 comments:

  1. dil ko chuu dene wali gazal hai... sukun mila padhkar

    ReplyDelete
  2. great gazal. its realy superb

    ReplyDelete
  3. very romantic poetry dear with appropriate photograph.

    ReplyDelete

Share Your Views on this..