Thursday, 30 April 2009

चंद शब्दों की कहानी नही होती

चंद शब्दों की कहानी नहीं होती ;
कुछ पलों की जवानी नहीं होती /
जिंदगी तो यूँ भी गुजर जायेगी लेकिन ;
बिना मोहब्बत के जिंदगानी जिंदगानी नहीं होती /
-----------------------------------------------
-----------------------------------------------
आज फिर तमन्नावों ने पंख फैलाये हैं ,
आज फिर खवाबों ने तेरी झलक पाए हैं ;
महफ़िल सजाई है अपनी तन्हाई की ,
आज फिर यादों ने बेवफाई की है ;
आज गुरेज कैसे करते हया से तेरी दूरी का ,
ये रास्ते तो हमने ही तुम्हें दिखाएँ हैं /

2 comments:

  1. sahi farmaya.......chand shabdon ki kahani nhi hoti.

    ReplyDelete
  2. bahut khoob kaha aapney!!!

    ReplyDelete

Share Your Views on this..